class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीएम नीतीश पर बरसे शरद, कहा- एनडीए में जाना ही था तो अलग क्यों हुए थे 

sharad yadav visited at madhepura

मधेपुरा दौरे के दौरान शरद यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा। कहा- अगर एनडीए के साथ ही रहना था तो फिर उससे अलग ही क्यों हुए थे।

शरद यादव ने कहा कि इससे यह बात साबित हो गया कि जनता से किये गये वायदे से उन्हें कोई मतलब नहीं है। यह बात जदयू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव ने कही। श्री यादव शनिवार की रात लगभग 8 बजे मधेपुरा स्थित अपने आवास पर पहुंचे और पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक में अपनी बाबात रख रहे थे। 


मधेपुरा पहुंचने पर श्री यादव का जदयू कार्यकर्ताओं के अलावा राजद और कांग्रेस नेताओं ने भव्य स्वागत किया। भारी बारिश के बाद भी कार्यकर्ता श्री यादव के आवास पर घंटों जमे रहे और पार्टी की बैठक में शामिल हुए। कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए श्री यादव ने कहा कि बीस महीने पहले जिस महागठबंधन पर जनता ने विश्वास कर वोट दिया उसी महागठबंधन को तोड़कर जनता की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया गया है।

उन्होंने कहा कि जब एनडीए के साथ थे तो उस समय भी बार-बार यह कहा गया था कि एनडीए को नहीं छोड़ंे, लेकिन व्यक्तिगत स्वार्थ में एनडीए से नाता तोड़ा गया। अब जब काफी प्रयास के बाद उन्होंने महागठबंधन बनाया तो नीतीश ने फिर अपने स्वार्थ के लिए जनता के साथ विश्वासघात किया। 


श्री यादव ने कहा कि एनडीए से अलग होने के बाद संसदीय चुनाव में अधिकांश जगहों पर जदयू उम्मीदवार अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए थे। ऐसी विषम स्थिति में उन्होंने राजद और कांग्रेस के साथ बातें की और फिर महागठबंधन बनाया। उन्होंने कहा कि महागठबंधन को तोड़ने के बाद उत्पन्न राजनीति स्थिति को शांत करने के लिए उनके पास भी कई अच्छे प्रस्ताव लेकर एनडीए के नेताओं को भेजा गया। लेकिन उन्होंने यह कहकर सभी प्रस्ताव को ठुकरा दिया कि जनता के साथ पांच साल तक बेहतर काम करने के किये गये वायदे से वे मुकर नहीं सकते हैं।

श्री यादव ने कहा कि जब तक  उनकी सांसें चलेगी तब तक वे जनता से वादाखिलाफी नहीं कर सकते हैं। श्री यादव ने कहा कि जनता से किये गये वायदे अगर तोड़े जाते हैं तो इससे लोकतंत्र का सबसे अधिक नुकसान होता है। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि महागठबंधन तोड़ने के लिए नीतीश जितना दोषी हैं उसी तरह उनका साथ देने वाले पार्टी के विधायक और मंत्री भी कम दोषी नहीं हैं। इसलिए ऐसे विधायक और मंत्रियों के दरवाजे पर शांतिपूर्ण तरीके से दस्तक दें और जनता से किये गये वादाखिलाफी के बारे में सवाल पूछे।

श्री यादव ने कहा कि पार्टियां तो जनता की औलाद होती है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि बिहार में महागठबंधन को मजबूत करें। मौके पर पार्टी कार्यकर्ताओं ने शरद यादव को सहयोग के रूप में एक लाख 11 हजार रुपये दिये।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:sharad yadav attack on CM nitish for alliances with NDA
बैंक ऑफ इंडिया की जांच होगी : डीएमसावधान! अगले 24 घंटे में कोसी-सीमांचल में भारी बारिश के आसार