class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाढ़ का कहर, जोगवनी के बाद अब सिलीगुड़ी रूट की ट्रेनों के ठप होने का खतरा

flood on rail track at jogbani

बाढ़ की विभीषिका को देखते हुए जोगबनी रेल रूट के बाद अब सिलीगुड़ी-कटिहार रेल रूट ठप पड़ने का खतरा मंडराने लगा है।

बाढ़ की विभीषिका को देखते हुए जोगबनी रेल रूट के बाद अब सिलीगुड़ी-कटिहार रेल रूट ठप पड़ने का खतरा मंडराने लगा है। दरअसल सिलीगुड़ी-कटिहार रेल रूट पर पानी आ जाने की वजह से कटिहार रेल मंडल से विभिन्न रूटों पर चलने वाली  ट्रेनों का परिचालन लगभग ठप पड़ गया है।

रेल ट्रैक पर पानी की वजह से 12 से ज्यादा लंबी दूरी और सवारी ट्रेनों का  परिचालन रद्द कर दिया गया है। वही कई ट्रेनों को रास्ते से ही वापस किया जा रहा है। रविवार को कटिहार मंडल के अपर  मंडल रेल प्रबंधक डी एल मीणा, वरीय वाणिज्य प्रबंधक बीके मिश्रा और अन्य अधिकारियों ने संयुक्त रूप से बताया कि  कटिहार जोगबनी रेल रूट के विभिन्न स्टेशनों पर पानी आ जाने से तत्काल परिचालन रद्द है, वहीं शनिवार की देर रात  कटिहार सिलीगुड़ी रूट के पॉजीपाड़ा और हटवार स्टेशन के मध्य अप, डाउन दोनों लाइन पर पानी चढ़ गया है।

इसकी वजह  से उत्तर बंग, कंचन कन्या, पदातिक, कामरुप एक्सप्रेस जैसी लंबी दूरी की ट्रेन रविवार को रद्द रहेंगी। वहीं कटिहार से  राधिकापुर, मालदा, सिलीगुड़ी के बीच चलने वाली लगभग छह सवारी ट्रेनों का परिचालन रद्द कर दिया गया है। इस रूट की  प्रमुख ट्रेन 12424 नंबर की राजधानी एक्सप्रेस कटिहार और ब्रह्मपुत्र को बारसोई में कंट्रोल किया गया है।

रेल अधिकारियों  ने बताया कि ट्रेन परिचालन रद्द होने से कटिहार, बारसोई, किशनगंज, सिलीगुड़ी, न्यू जलपाईगुड़ी(एनजेपी) आदि स्टेशनों पर  भारी भीड़ जमा है। इसके लिए सुरक्षा विभाग के अधिकारी विभागीय अधिकारियों के साथ निगरानी और चौकसी बरत रहे हैं।  

पानी घटने को लेकर रेल प्रशासन की निगरानी जारी है, साथ ही स्थानीय बिहार और पश्चिम बंगाल राज्य सरकारों के  अलावा रेल मंत्रालय से भी संपर्क साध कर आगे की कार्रवाई के लिए तैयारी की जा रही है। स्टेशन पर रोशनी, पानी समेत  अन्य जरुरी सुविधाओं की बहाली को लेकर विभागीय अधिकारियों की टीम गठित की गई है जो हर घंटे खैरियत से  मुख्यालय को अवगत करा रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:havoc, flood, bihar flood, train, rail track, affected, katihar route
कोसी-सीमांचल की अधिकांश नदियां उफनाई, शहर-गांव जलमग्नभागलपुर में सृजन घोटाले में अब एक और गिरफ्तार, संख्या बढ़कर आठ