Image Loading get by luck - Hindustan
मंगलवार, 28 मार्च, 2017 | 21:09 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अब तक की 10 बड़ी खबरें
  • धर्म नक्षत्र: पढ़ें आस्था, नवरात्रि, ज्योतिष, वास्तु से जुड़ी 10 बड़ी खबरें
  • अमेरिका के व्हाइट हाउस में संदिग्ध बैग मिलाः मीडिया रिपोर्ट्स
  • फीफा ने लियोनल मैस्सी को मैच अधिकारी का अपमान करने पर अगले चार वर्ल्ड कप...
  • बॉलीवुड मसाला: अरबाज के सवाल पर मलाइका को आया गुस्सा, यहां पढ़ें, बॉलीवुड की 10...
  • बडगाम मुठभेड़: CRPF के 23 और राष्ट्रीय राइफल्स का एक जवान पत्थरबाजी के दौरान हुआ घाय
  • हिन्दुस्तान Jobs: बिहार इंडस्ट्रियल एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी में हो रही हैं...
  • राज्यों की खबरें : पढ़ें, दिनभर की 10 प्रमुख खबरें
  • टॉप 10 न्यूज़: पढ़े देश की अब तक की बड़ी खबरें
  • यूपी: लखनऊ सचिवालय के बापू भवन की पहली मंजिल में लगी आग।
  • पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी को हार्ट में तकलीफ के बाद लखनऊ के अस्पताल...

भाग्य से ही मिलता है

लाइव हिन्दुस्तान टीम First Published:08-03-2017 03:20:21 AMLast Updated:08-03-2017 03:20:21 AM

एक आदमी ने नारदमुनि से पूछा मेरे भाग्य में कितना धन है? नारदमुनि ने कहा - भगवान विष्णु से पूछकर कल बताऊंग। रदमुनि ने कहा- 1 रुपया रोज तुम्हारे भाग्य में है। उसकी जरुरतें एक रुपये में पूरी हो जाती थीं। एक दिन उसके मित्र ने कहा में तुम्हारे सादगी जीवन और खुश देखकर बहुत प्रभावित हूं और अपनी बहन की शादी तुमसे करना चाहता हूं।

आदमी ने कहा मेरी कमाई एक रुपये रोज है, इस बात का भी ध्यान रखना। इसी में से ही तुम्हारी बहन को गुजर बसर करना पड़ेगा। मित्र ने कहा, कोई बात नहीं उसे रिश्ता मंजूर है। अगले दिन से उस आदमी की कमाई 11 रुपया हो गई। उसने नारदमुनि से पूछा कि मुनिवर मेरे भाग्य में एक रुपया रोज लिखा है फिर 11 रुपये क्यो मिल रहे है।

नारदमुनि ने कहा: अब तुम्हारे साथ एक और सदस्य भी जुड़ गया है, जिससे तुमहारी शादी होने वाली है। ये दस रुपये उसके भाग्य से ही मिल रहे हैं। इसके बाद उसकी पत्नी गर्भवती हुई और उसकी कमाई 31 रुपये होने लगी। व्यक्ति ने फिर नारदमुनि को बुलाया और पूछा कि अचानक उसे 31 रुपये कैसे प्राप्त होने लगे। क्या व कोई अपराध कर रहा हूं।

मुनिवर ने कहा- यह तेरे बच्चे के भाग्य के 20 रुपये मिल रहे है। बताया कि हर मनुष्य को उसका प्रारब्ध (भाग्य) मिलता है। किसके भाग्य से घर में धन दौलत आती है किसी को नहीं पता। हालांकि मनुष्य अहंकार करता है कि मैने बनाया, मैंने कमाया आदि। मै कमा रहा हूँ,,, मेरी वजह से हो रहा है। हे प्राणी तुझे नहीं पता तू किसके भाग्य का खा कमा रहा है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: get by luck
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड