class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Fitness : बिना जिम गए भी रह सकते हैं फिट, अगर एक्सरसाइज पसंद न हो तो....

आजकल हमारी जीवनशैली ऐसी हो गई है, जिसमें ज्यादातर काम मशीनों से ही करना होता है। इससे हमारी शारीरिक गतिविधियां काफी कम हो गई हैं। खासकर जिन लोगों का काम सारा दिन बैठने का होता है, उन्हें स्वास्थ्य समस्याओं का ज्यादा सामना करना पड़ता है। ऐसी समस्याओं में मोटापा, उच्च रक्तचाप, डायबिटीज और हृदय संबंधी बीमारियां प्रमुख हैं। नियमित रूप से वर्कआउट करने से न सिर्फ आप स्वस्थ रहेंगे, बल्कि युवा और आकर्षक भी नजर आएंगे। अध्ययनों में यह बात सामने आई है कि वर्कआउट के बहुत अधिक स्वास्थ्य लाभ हैं। 

घर पर ही लें जिम का आनंद
घर पर आपके पास जिम जैसी सुविधाएं तो नहीं होंगी, लेकिन आप इंटरनेट से एक्सरसाइज करने के ऐसे यंत्रों का पता लगा सकते हैं, जो आपके बजट में हों और जिन्हें रखने के लिए आपके घर में स्थान भी उपलब्ध हो। नये-नये वर्कआउट्स को देखने के लिए फिटनेस मैगजीन खरीदें, ताकि आप यह सुनिश्चित कर सकें कि आप ठीक प्रकार से एक्सरसाइज कर रहे हैं। यह आपको विभिन्न प्रकार की एक्सरसाइज के दौरान शरीर का पॉस्चर सही रखने में भी सहायता करेगी। उसमें छपी तस्वीरों के अनुसार सही तकनीकों का उपयोग करें। आजकल बहुत सारी फिटनेस डीवीडी भी बाजार में हैं।

ऐसे करें शुरुआत
अगर आपने एक्सरसाइज करना अभी-अभी शुरू किया है तो सप्ताह में तीन बार कम से कम 30 मिनट तक कार्डियोवैस्क्युलर एक्सरसाइज करें और सप्ताह में तीन बार ही 20 से 30 मिनट तक रेजिस्टेंट (स्ट्रेंथ-बिल्डिंग) वर्कआउट करें। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस प्रकार की एक्सरसाइज कर रहे हैं। धीमी शुरुआत करें और धीरे-धीरे अपने वर्कआउट का समय और तीव्रता बढ़ा दें। शुरुआत में अपने शरीर पर अधिक दबाव न डालें। अपने शरीर की अवश्य सुनें। वर्कआउट शुरू करने से पहले एक लक्ष्य निर्धारित करें। उन मांसपेशियों पर फोकस करें, जिन पर आप सोचते हैं कि आपको काम करना चाहिए। अगर वर्कआउट के लिए एक साथी तलाश लें तो बेहतर रहेगा। निरंतरता टूटने से बेहतर परिणाम नहीं मिलेंगे।

अगर एक्सरसाइज पसंद न हो
अधिकतर लोग यह समझते हैं कि वर्कआउट का अर्थ जिम में जाकर पसीना बहाना है, जबकि सच्चाई यह है कि हर वह कार्य वर्कआउट के अंतर्गत आता है, जिसमें आपके दिल की धड़कनें, सांस की गति और रक्त का संचरण बढ़ जाता है। यह कार्य आप 20 मिनट में कर सकते हैं। अगर आपको एक्सरसाइज करने में बोरियत होती है तो आप फिटनेस प्राप्त करने के लिए इन्हें आजमा सकते हैं।

टहलना और जॉगिंग
चलना एक्सरसाइज के सबसे बेहतरीन रूपों में से एक है, क्योंकि इसे हम बिना पैसा खर्च किये आसानी से कर सकते हैं। चलना कार्डियो वैस्क्युलर सिस्टम (हृदय, फेफड़े और संचरण) को प्रोत्साहित करता है। यह पैरों और कूल्हों की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है। एक औसत व्यक्ति एक दिन में 10,000 कदम चलकर लगभग 400 कैलरी जला सकता है। अगर आप 20 मिनट तक लगातार तेज चल सकते हैं तो आपको ‘वॉक-जॉग’ का प्रयास करना चाहिए। एक मिनट चलें, एक मिनट जॉगिंग करें।

दौड़ना 
दौड़ने के लिए आपको टहलने की तुलना में अधिक फिट होना पड़ेगा। दौड़ने के साथ सबसे अच्छी बात यह है कि आप इसे लगभग कहीं भी कर सकते हैं। दौड़ना एक बेहतरीन व्यायाम है। आप दौड़ने में कितनी कैलरी जला लेते हैं, यह आपकी दौड़ने की गति और आपके भार पर निर्भर करता है। 

तैरना
चलने और दौड़ने के बाद स्विमिंग यानी तैरना सबसे लोकप्रिय व्यायामों में से एक है। तैरने से पूरे शरीर का व्यायाम होता है। इसे वजन कम करने और शरीर को टोन अप करने के लिए अच्छा व्यायाम माना जाता है। इसके लिए अपने घर या कार्यालय के पास स्थित किसी स्विमिंग पूल के सदस्य बन जाएं।

साइकलिंग
यह एक एरोबिक एक्सरसाइज है और इससे भी कार्डियोवैस्क्युलर तंत्र और शरीर का निचला भाग मजबूत होता है। आप अपने घर के पास बने किसी मैदान या सुनसान स्थान पर साइकिल चलाने का आनंद ले सकते हैं। विदेशों में राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री भी साइकिल चलाने में बिल्कुल नहीं शर्माते।

नाचना
नाचने यानी डांसिंग का शौक लगभग हर किसी को होता है। यह एक एरोबिक एक्सरसाइज है, जो आपके संतुलन, कोआर्डिनेशन, स्टैमिना और शक्ति को बढ़ाता है। नृत्य सभी उम्र, आकार के लोगों के लिए उपयुक्त है। आप कोई डांस इंस्टीट्यूट जॉयन कर सकते हैं या बाजार में उपलब्ध डीवीडी की सहायता से घर पर ही अभ्यास कर सकते हैं।

इन बातों का भी रखें ध्यान
0 वर्कआउट करते समय बोरियत अनुभव न करें। पूरे मन से व्यायाम करेंगे तो अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे।
0 अच्छे स्वास्थ्य के लिए खाने और सोने की तरह वर्कआउट को भी अपने जीवन का हिस्सा बना लें।
0 अपनी जीवनशैली में छोटे-छोटे परिवर्तन करें, अल्कोहल का सेवन न करें या बिल्कुल कम कर दें।
0 रोज वर्कआउट करना जरूरी नहीं है। अगर आपके घर के पास कोई पहाड़ी क्षेत्र हो तो कभी-कभी उस पर चढ़ाई करें, स्विमिंग पूल चले जाएं या अपने दोस्तों के साथ कोई आउटडोर खेल खेलें।

(श्री बालाजी एक्शन मेडिकल इंस्टीट्यूट के इंटरनल मेडिसिन विभाग की सीनियर कंसल्टेंट डॉ. मनीषा अरोड़ा और साउथ एक्सटेंशन स्थित द्रोणाचार्य जिम के संचालक सुमित बेदी से की गई बातचीत पर आधारित)
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:fitness without gym
ऑस्टियो आर्थराइटिस से परेशान हैं तो यहां पा सकते हैं इलाजसावधान: डाइटिंग आपको बना सकती है डिप्रेशन का शिकार, डाइटिंग करें पर संभलकर